Tuesday, April 16, 2024
Homeसमाचारदेशचुनाव आयोग ने लू की चेतावनी जारी की, क्या करें और क्या...

चुनाव आयोग ने लू की चेतावनी जारी की, क्या करें और क्या न करें की सूची

भारत के चुनाव आयोग (ईसी) ने लोकसभा चुनाव 2024 से पहले हीट वेव एडवाइजरी जारी की है। यह एडवाइजरी तब आई है जब भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा है कि देश में इस साल गर्मी के मौसम की शुरुआत गर्म होने की संभावना है। कुछ दिन पहले ही आईएमडी ने चेतावनी दी थी कि अप्रैल के महीने में देश में अत्यधिक तापमान और भीषण गर्मी पड़ने की संभावना है।

गौरतलब है कि भारत में अप्रैल और जून के महीने में लोकसभा चुनाव के लिए मतदान होना है। 18वीं लोकसभा के चुनाव 19 अप्रैल से 1 जून के बीच सात चरणों में होंगे।

EC ने हीट वेव के दौरान प्रभाव को कम करने और हीट स्ट्रोक के कारण गंभीर बीमारी या मृत्यु को रोकने के लिए राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) द्वारा जारी की गई क्या करें और क्या न करें की सूची सूचीबद्ध की है।

गर्मी की लहर के प्रभाव को कम करने के उपायों की सूची

धूप में बाहर जाने से बचें, खासकर दोपहर 12 बजे से 3 बजे के बीच।

-प्यास न होने पर भी पर्याप्त मात्रा में और जितनी बार संभव हो पानी पिएं

– हल्के, हल्के रंग के, ढीले और छिद्रयुक्त सूती कपड़े पहनें।

-धूप में बाहर जाते समय सुरक्षात्मक चश्मे, छाता/टोपी, जूते या चप्पल का उपयोग करें।

-बाहर का तापमान अधिक होने पर ज़ोरदार गतिविधियों से बचें।

यात्रा करते समय अपने साथ पानी अवश्य रखें।

-शराब, चाय, कॉफी और कार्बोनेटेड शीतल पेय से बचें, जो शरीर को निर्जलित करते हैं।

-उच्च प्रोटीन वाले भोजन से बचें और बासी भोजन न करें।

-यदि आप बाहर काम करते हैं, तो टोपी या छाते का उपयोग करें और अपने सिर, गर्दन, चेहरे और अंगों पर एक नम कपड़े का भी उपयोग करें।

-बच्चों या पालतू जानवरों को पार्क किए गए वाहनों में न छोड़ें

-अगर आप बेहोश या बीमार महसूस करें तो तुरंत डॉक्टर से मिलें।

ओआरएस, घर में बने पेय जैसे लस्सी, तोरानी (चावल का पानी), नींबू पानी, छाछ आदि का उपयोग करें जो शरीर को फिर से हाइड्रेट करने में मदद करता है।

-जानवरों को छाया में रखें और उन्हें पीने के लिए भरपूर पानी दें।

-अपने घर को ठंडा रखें, पर्दे, शटर या सनशेड का उपयोग करें और रात में खिड़कियां खुली रखें।

-पंखे का प्रयोग करें, गीले कपड़े पहनें और बार-बार ठंडे पानी से नहाएं।

इसके अलावा, चुनाव आयोग ने सुनिश्चित न्यूनतम सुविधाओं (एएमएफ) के संबंध में सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों को भी लिखा है।

पत्र में, उसने लिखा, “आयोग सीईओ/डीईओ को प्रत्येक मतदान केंद्र पर एएमएफ का पूर्ण अंतर विश्लेषण करने और मतदान केंद्रों पर इन एएमएफ को स्थायी रूप से प्रदान करने के लिए राज्य अधिकारियों के साथ काम करने का निर्देश देता है। यह मतदाताओं को आसानी से वोट डालने की सुविधा भी प्रदान करता है। एएमएफ में मतदान केंद्रों/स्थानों का दौरा कर उनकी योग्यता का आकलन करने के लिए सेक्टर अधिकारी शामिल हैं।”

इसमें यह भी कहा गया है, “बुजुर्ग और विकलांग मतदाताओं के लिए मतदान की सुविधा के लिए मतदान केंद्र किसी इमारत के भूतल पर स्थापित किए जाने चाहिए। इसमें यह भी कहा गया कि पीने के पानी के लिए नल की सुविधा की व्यवस्था होनी चाहिए।

चुनाव आयोग ने अपने पत्र में यह भी कहा कि, “पुरुष और महिला मतदाताओं आदि के लिए पर्याप्त संख्या में अलग-अलग शौचालय भी होने चाहिए।”

“गर्मियों के दौरान, प्रत्येक मतदान दल को उनके स्वयं के उपयोग के साथ-साथ हीट-स्ट्रोक के कारण इसकी आवश्यकता वाले किसी भी मतदाता के लिए ओरल रिहाइड्रेशन साल्ट (ओआरएस) की आपूर्ति की जाएगी। हीट स्ट्रोक की स्थिति में ‘क्या करें और क्या न करें’ पर एक हैंड-बिल तैयार किया जा सकता है और प्रत्येक मतदान दलों को प्रदान किया जा सकता है।”

इसके अलावा, इसमें कहा गया है कि मतदान केंद्रों पर पर्याप्त फर्नीचर, उचित प्रकाश/बिजली की व्यवस्था, छाया, चिकित्सा किट, मतदान केंद्रों पर स्वयंसेवक आदि जैसे प्रावधान भी उपलब्ध होने चाहिए।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments