https://www.fapjunk.com https://pornohit.net london escort london escorts buy instagram followers buy tiktok followers
Thursday, February 22, 2024
Homeअन्यवायुसेना दो महीने में एक मिग-21 स्क्वाड्रन को रिटायर करेगी; 2025 तक...

वायुसेना दो महीने में एक मिग-21 स्क्वाड्रन को रिटायर करेगी; 2025 तक पूरा बेड़ा

भारतीय वायु सेना इस साल सितंबर के अंत तक मिग -21 बाइसन विमान के एक और स्क्वाड्रन को सेवानिवृत्त करने के लिए तैयार है। सेवा में शेष तीन विमानों को 2025 तक चरणबद्ध तरीके से समाप्त कर दिया जाएगा।समाचार एजेंसी एएनआई ने अपने सूत्रों के हवाले से कहा, “श्रीनगर हवाई अड्डे से बाहर स्थित 51 स्क्वाड्रन को 30 सितंबर को नंबर प्लेट किया जा रहा है। इसके बाद, विमानों के केवल तीन स्क्वाड्रन सेवा में रह जाएंगे और वर्ष 2025 तक चरणबद्ध हो जाएंगे।” आईएएफ कह रहा है।IAF मिग-21 फाइटर जेट्स की जगह Su-30 और स्वदेशी लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (LCA) जैसे अधिक सक्षम विमानों से ले रहा है। एएनआई के मुताबिक, पिछले 20 महीनों में 6 मिग-21 विमान दुर्घटनाओं में मारे गए हैं, जिनमें पांच पायलटों की जान चली गई है.भारतीय वायु सेना (IAF) का एक मिग-21 लड़ाकू विमान गुरुवार रात राजस्थान के बाड़मेर जिले में दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिससे दोनों पायलटों की मौत हो गई। बाड़मेर के जिला कलेक्टर लोक बंधु ने पीटीआई-भाषा को बताया कि वायुसेना का विमान बायटू के भीमदा गांव के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया।भारतीय वायुसेना ने एक ट्वीट में कहा कि दो सीटों वाला मिग-21 ट्रेनर विमान आज शाम राजस्थान के उतरलाई हवाई अड्डे से प्रशिक्षण के लिए उड़ान भर रहा था। रात करीब 9:10 बजे बाड़मेर के पास विमान का एक्सीडेंट हो गया। दोनों पायलटों को घातक चोटें आईं।भारतीय वायुसेना ने कहा कि उसे जान गंवाने का गहरा अफसोस है और वह शोक संतप्त परिवारों के साथ मजबूती से खड़ा है। हादसे के कारणों का पता लगाने के लिए कोर्ट ऑफ इंक्वायरी के आदेश दे दिए गए हैं।दुर्घटना ने एक बार फिर भारत के सबसे लंबे समय तक सेवा देने वाले लड़ाकू विमान, उसके सुरक्षा रिकॉर्ड और आने वाले वर्षों में पुराने जेट को नए के साथ बदलने की भारतीय वायुसेना की योजनाओं पर ध्यान केंद्रित किया है।वायु सेना को 1963 में अपना पहला सिंगल-इंजन मिग-21 मिला, और इसने अपनी युद्ध क्षमता को बढ़ाने के लिए सोवियत मूल के सुपरसोनिक लड़ाकू विमानों के 874 वेरिएंट को उत्तरोत्तर शामिल किया। IAF द्वारा शामिल किए गए 874 मिग -21 वेरिएंट में से 60% से अधिक भारत में लाइसेंस-उत्पादित थे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments